Join us on a literary world trip!
Add this book to bookshelf
Grey
Write a new comment Default profile 50px
Grey
Subscribe to read the full book or read the first pages for free!
All characters reduced
चाँद का नृत्य (रक्त बंधन किताब एक)‎ - रक्त बंधन श्रंखला किताब 1 - cover

चाँद का नृत्य (रक्त बंधन किताब एक)‎ - रक्त बंधन श्रंखला किताब 1

Amy Blankenship

Translator Mumtaz Aziz Naza

Publisher: Tektime

  • 0
  • 0
  • 0

Summary

एनवी की ज़िंदगी बहुत अच्छी थी। बहुत अच्छा भाई, बहुत अच्छा प्रेमी, और एक लड़की को मिल पाने ‎वाली बेहतरीन नौकरी..... शहर के सबसे लोकप्रिय क्लब में बार टेंडर की नौकरी। कम से कम यह टैब तक ‎बेहतरीन थी, जब तक उसे उसकी सबसे अच्छी सहेलियों में से एक का फोन नहीं आया, कि उसका प्रेमी ‎मून डांस के डांस फ्लोर पर लम्बवत लिम्बो कर रहा है। उसका सामना करने का उसका निर्णय घटनाओं ‎की एक श्रृंखला की शुरूआत करता है जो उसे एक खतरनाक असामान्य दुनिया से परिचित कराएगी जो ‎रोजमर्रा की नीरसता के नीचे छिपी हुई है। एक ऐसी दुनिया जहां लोग जगुआर में बदल सकते हैं, ‎वास्तविक जीवन के पिशाच सड़कों पर घूमते हैं, और गिरे हुए फरिश्ते हमारे बीच चलते हैं। डेवोन एक ‎इच्छाधारी तेंदुआ है, जो किनारों के आसपास थोड़ा कठोर है और मून डांस के संयुक्त मालिकों में से एक ‎है। उसकी दुनिया अपनी धुरी पर झुकी जाती है जब वह अपने क्लब में नाचने वाली लाल बालों के वाली ‎आकर्षक एविक्सन की जासूसी करता है, जो एक स्वार्थी दिल और एक टसर से लैस है। उनके चारों ओर ‎एक पिशाच युद्ध छिड़ने के साथ, डेवोन इस महिला को अपना बनाने की कसम खाता है... और उसे पाने ‎के लिए अपनी पूरी ताक़त से लड़ेगा।
Available since: 08/10/2021.

Other books that might interest you

  • एक अंग्रेजी मनोरोगी की स्वीकारोक्ति - cover

    एक अंग्रेजी मनोरोगी की स्वीकारोक्ति

    जैक डी मैक्लेन

    • 0
    • 0
    • 0
    यह पुस्तक एक काल्पनिक रचना है। नाम, पात्र, स्थान और घटनाएं लेखक की कल्पना का उत्पाद हैं या काल्पनिक रूप से उपयोग किए जाते हैं। वास्तविक घटनाओं, स्थानों, या व्यक्तियों, जीवित या मृत किसी भी समानता, विशुद्ध रूप से संयोग है। 
    
    
    सभी अधिकार सुरक्षित। इस पुस्तक का कोई भी भाग लेखक की अनुमति के बिना किसी भी रूप में, इलेक्ट्रॉनिक या मैकेनिकल, फोटोकॉपी, रिकॉर्डिंग, या किसी भी सूचना भंडारण और पुनर्प्राप्ति प्रणाली द्वारा पुन: प्रस्तुत या प्रेषित नहीं किया जा सकता है। 
    
    
    जूलियन और मेलिंडा के लिए
    मुझे समझदार और मेरे पैर जमीन पर रखने के लिए आपने मदद की है!
    Show book
  • लाश की हत्या - cover

    लाश की हत्या

    प्रकाश भारती

    • 0
    • 0
    • 0
    सुरेश दुग्गल को यकीन था देवराज मेहता उसकी बीवी पर डोरे डाल रहा था। उसने राजेश के सामने एलान कर दिया- देवराज मेहता का खून कर देगा।सुधीर और राजेश उसे रोकने के लिए मेहता के निवास स्थान पर जा पहुंचे.... सुरेश पहले ही वहाँ पहुँच चुका था।स्टडी के अंदर से लाक्ड दरवाजे के पीछे फायर की आवाज गूँजी।सुधीर और राजेश ने एक साथ कंधे से जोरदार प्रहार किया। दरवाजा टूट गया... भीतर दाखिल होते ही बारूद की गंध उनके नथुनों से टकराई।काफी बड़े डेस्क के पीछे शानदार सूट पहने रिवाल्विंग चेयर पर देवराज मेहता मौजूद था- शरीर तनिक बांयी ओर झुका... सर कंधे पर ढलका हुआ... खुली आँखें निर्जीव... छाती पर बांयी तरफ कोट में साफ नजर आता सुराख.... वह मर चुका था।ठीक सामने डेस्क के पास खड़े सुरेश दुग्गल के दांये हाथ में थमें भारी रिवाल्वर से धूँए की पतली सी लकीर अभी भी निकल रही थी।उसका चेहरा गुस्से से तमतमा रहा था। आँखें सुलगती सी लग रही थीं।-“मैंने कहा था न खून कर दूँगा साले का।” उन दोनों की ओर पलटकर नफरत से पगे स्वर में बोला- “कर दिया।”जुर्म का इकबाल.... मौका ए वारदात पर रंगे हाथ मर्डर वैपन सहित पकड़ा जाना.... दो चश्मदीद गवाह... मर्डर का तगड़ा मोटिव भी...।तमाम सबूत ठोस और उसके खिलाफ। शक की कहीं कोई गुंजाइश नहीं.... सुरेश दुग्गल ने देवराज मेहता की हत्या की थी। वह खूनी था।लेकिन लाश के पोस्टमार्टम की रिपोर्ट में जो खुलासा हुआ वो बेहद चौंका देने वाला था...।सुधीर और राजेश भी एकाएक विश्वास नहीं कर सके???(रहस्य और रोमांच से भरपूर रोचक उपन्यास)
    Show book
  • अनोखी औरत - cover

    अनोखी औरत

    प्रकाश भारती

    • 0
    • 0
    • 0
    अजय के लॉक्ड फ्लैट में रोशनदान के जरिये जा घुसी टिनी खुद को तो बचाने में कामयाब हो गई । लेकिन अजय बखेड़ों में फँसता चला गया...शुरुआत हुई नीम अँधेरी सुनसान सड़क पर घात लगाए अज्ञात पहलवान टाइप हमलावर के साथ भारी मारामारी से...घर पहुंचा तो वहां मौजूद थी । पूरी तरह जवान मगर सवा तीन फुटी बौनी स्री वह टिनी स्मिथ थी - सर्कस में ट्रेपीज़ आर्टिस्ट रह चुकी प्रोफेशनल सिंगर । उसकी बातों से पता चला जगतार से बचकर वहां आ चुकी थी और अजय पर हमला करने वाला जगतार ही था ।
     
    अगली सुबह अजय अपने दोस्त की कार लेकर प्राइवेट डॉक्स एरिया पहुंचा । जगतार वहां लंगर डाले खड़ी यॉट जलपरी पर काम करता था । यॉट के मालिक थे हरमेश मित्रा और उसकी बेटी रागिनी थे...वहां तक पहुंचने के लिए किश्तियाँ किराये पर देनेवाला अधेड़ घाघ किस्म का आदमी निकला...अजय एक किश्ती लेकर यॉट पर पहुंचा...डैक पर रागिनी की सहेली नीरा मेहता मिली...हरमेश मित्रा ने बताया जगतार की उसे भी तलाश है...दो रोज पहले वह उसका पैसा लेकर भाग गया और उसने जो पता बताया था वो फर्जी निकला...नीरा मेहता किश्ती में अजय के साथ ही लौटी । वह पास ही टूरिस्ट कॉटेजों में रहती थी...अजय ने उसे कार में लिफ्ट दे दी...।
     
    सर्कस में टिनी के जोड़ीदार रहे टिंगू बौना की तलाश में अजय वोल्गा बार पहुंचा...टिंगू तो नहीं मिला लेकिन जगतार का पता चला वह शाम को करीमगंज में देशी ठेके पर मिलेगा ।
     
    शाम को अजय उस ठेके पर पहुंचा...। पता चला जगतार आकर जा चुका था...वह बेहद गुस्से में था और किसी छटंकी को सबक सिखाने जाने की बात कर रहा था...अजय सब समझ गया...टिनी के घर से दूर ही कार पार्क करके वह उसके घर पहुंचा...टिनी द्वारा दी चाबी से ताला खोला । अंदर जाकर इंतजार करने लगा...। घंटे भर बाद जगतार वहां आया तो अजय ने मार मार कर उसका मुरकस निकाल दिया...टिनी से दूर रहने की कसमें खाता रहां...उसकी हालत बेहद खस्ता थी...अजय उसे वहीँ लॉक करके चला गया...।
     
    अपने फ्लैट पर पहुंचा तो टिनी वहां नहीं थी । रात दस बजने के बाद उसका फ़ोन आया और बस इतना कहा-जगतार की खोपड़ी के टुकड़े टुकड़े करके तुमने ठीक नहीं किया...।
     
    अगली सुबह...बौनी के घर में हत्या...बौनी फरार...। पढ़कर अजय ने टिनी को ढूंढ़ने का फैसला किया...। बारह साल की उम्र तक टिनी की परवरिश कीमतीलाल और उसकी पत्नी शांता ने की थी...लेकिन वहां से भी उसका कोई पता नहीं चला...।
     
    अजय 'जलपरी' पर पहुंचा...। रागिनी मित्रा सैक्सी नजर आती बातूनी किस्म की शराबी युवती निकली । कोई कार आमद जानकारी उससे तो नहीं मिली लेकिन किश्तियों वाले अधेड़ ने सौ रुपये लेकर बताया...दस दिन पहले 'जलपरी' बम्बई से आयी थी । बाप बेटी के अलावा दो आदमी रहमान और उस्मान भी थे...वे आते जाते रहते हैं...नीरा मेहता और उसका पति मदन मेहता भी उसी रोज दिल्ली से यहाँ पहुंचे थे ।
     
    उसी रात टिंगू बौना का भुलावा देकर रहमान और उस्मान ने अजय को फंसा लिया लेकिन वह उनके चंगुल से निकल भगा ।
     
    अगली सुबह अजय टिंगू बौना से मिला... टिनी के बारे में तो वह कुछ नहीं बता सका लेकिन वादा किया रहमान और उस्मान अगर वोल्गा यॉट में आते होंगे तो उनके बारे में पता लगाकर बता देगा ।
     
    'जलपरी' पर हरमेश मित्रा तो हर बात को टालता रहा...लेकिन खासी पिए मुंहफट रागिनी ने साफ़ बताया...रहमान और उस्मान बम्बई से निकलकर चुपचाप विराटनगर आना चाहते थे...मोटा पैसा दे रहे थे इसलिए इसे उन्हें ले आये...।
     
    उसी रात टिंगू बौने ने फोन पर बताया...रहमान और उस्मान रंगमहल होटल के कमरा नंबर छियालीस में मिलेंगे...पूरी तैयारी के साथ अजय वहां पहुंचा । वे कमरे में नहीं थे...अजय की तलाशी में एक जैसी तीन अख़बारों की कट्टिंग्स मिली जिनमे महताब आलम नामक विधायक की हत्या का समाचार छपा था...। रहमान और उस्मान आ पहुंचे...गोलियां चली उस्मान मारा गया...रहमान भाग गया...अजय भी साफ बच निकला...।
     
    वो रात अजय ने नीलम के फ्लैट में गुजारी...नीलम ने कट्टिंग्स की डिटेल्स पता कीं - महताब आलम खान नामी स्मगलर रह चूका था उसकी उसके विरोधियों ने ही कराई थी...उसकी बीवी जीनत खान इन दिनों यहीं पीली हवेली में है करोड़ों की हैसियत रखती है...।
     
    अजय पीली हवेली जाकर बेगम जीनत महल से मिला...उस घाघ औरत ने सिर्फ इतना कबूल किया रहमान अली कई साल पहले उसके पति के लिए काम करता था...। उसी रोज़ दिल्ली में अपने सोर्स से पता चला...नीरा मेहता साइको है और मदन मेहता अचूक निशानेबाज और पेशेवर कातिल है...। डेढ़ बजे नीलम ने आकर बताया - टिंगू बौने की हत्या कर दी गई...।
     
    इस सारे बखेड़े की जड़ टिनी तक आखिर अजय पहुँच ही गया...वह कीमतीलाल की बेटियों के बीच छिपी मिली...। उसने बताया-यॉट पर काम करने के दौरान जगतार को पता चला वे लोग किसी की हत्या की योजना बना रहे थे...हफ्ते भर पहले मदन मेहता ने नशे की झोक में पैकेट का जिक्र किया जिसमे दो लाख नगद और आठ लाख के हीरे थे...जगतार की मदद से टिनी ने पोर्ट होल के रास्ते मित्रा के केबिन से पैकेट चुरा लिया...उन लोगों को पता लग गया...पीछा किया...टिनी और जगतार बच निकले...लेकिन पैकेट में हीरों की जगह कांच की गोलियां निकलीं और नोटों की गड्डियों में ऊपर नीचे के नोट ही असली थे...बाकी जनागज निकले...। जगतार की टिनी पर डबल क्रॉस का इल्जाम लगाया...टिनी बड़ी मुश्किल से जान बचाकर भागी और अजय के फ्लैट में जा छिपी...।
     
    अजय समझ गया इस झमेले से निपटने का एक तरीका था-बेगम जीनत खान, हरमेश मित्रा, रागिनी मित्रा, नीरा मेहता और मदन मेहता को मोहरों की तरह इस्तेमाल किया जाए ???
    Show book
  • जूनियर जासूस करमचंद - बाल उपन्यास - cover

    जूनियर जासूस करमचंद - बाल उपन्यास

    राजनारायण बोहरे

    • 0
    • 0
    • 0
    यह बाल कथाएं हमारे आसपास के समाज मे गैर कानूनी गतिविधियों में संलग्न लोगो के दास्तान कहती हैं। किशोरों को बहुत सहज तरीके से ऐसी आपराधिक गतिविधियों से भिड़ जाने की प्रेरणा देती यह कथाएँ किन्ही विशिष्ट बच्चों की कहानियां नहीं , आप और हमारे बीच घूमते पढ़ते खेलते बच्चो की कथाएं हैं आज गली गली में झोला छाप डॉक्टरों की फौज उग आयी है जिनको सस्ती और नकली दबाएं खरीद कर पैसे कमाने का नशा है,ऐसे डॉक्टर और नकली दवाओं के कारखानों का रहस्य उजागर करती कहानी "हत्यारी दवा" बाल जासुस अजय और अभय की एक रोचक दास्तान है। समाज को नशे का आदी बनाते अपराधी लोग अब अब किशोरों को भी अपने ग्राहक बना रहे है, कहानी "नशे के सौदागर" में ऐसे अजय ऐसे अपराधियों को जेल के सींखचे को पीछे पहुँचाने में पुलिस की मदद करता है कहानी जासूस करमचंद में नाटक में जासूस बना अजय स्कूल में पोटैशियम साइनाइड चुराने वाले चोर की खोज करता है
    Show book
  • येलो नोटबुक - uk०७d२०४२ - cover

    येलो नोटबुक - uk०७d२०४२

    शक्ति राव मणि, शिवम् राव मणि

    • 0
    • 0
    • 0
    यह पुस्तक भविष्य में हुई कहानियो को बताती है और एक दुसरे ब्रह्माण्ड से जोडती हैं कैसे एक मर्डर होता है कैसे सब लोग गायब हो जाते है ये सारी बाते २०३९ के समय की है जो 9 अरब साल के एक कृत्रिम ग्रह से जा मिलती है जहाँ का एक निवासी पृथ्वी पर राज करना चाहता है जिसका नाम रोश हैं , जो बहुत ताकत वर है , इस कहानी में गायत्री वल्लभ के १० सुपर पॉवर में से ज्योत्स्ना ,स्नेह ,एलिमेंट का ही परिचय करवाया गया हैं , गायत्री अपने बदले चक्कर में सब बिगड़ देता है जिसका बदला जया एक समय भंवर बनाकर लेती हैं जब वो येल्लो नोट बुक में अपनी कहानी पढ़ती हैं तो वो गायत्री को मार देती है
    Show book
  • दूसरी औरत - cover

    दूसरी औरत

    प्रकाश भारती

    • 0
    • 0
    • 0
    विक्रम खन्ना शैलजा जौहरी को साथ लिए सकुशल सलीमपुर पहुंच गया। जहां तीन अलग-अलग बैंकों की शाखाओं फर्जी नामों से लिए लाकर्स में साथ लाख की रकम थी। लाकर्स की चाबियाँ अहतियातन विक्रम ने अपने कब्जे में ले ली थीं। लेकिन किस बैंक में किस फर्जी नाम से लाकर था। यह सिर्फ शैलजा ही जानती थी। यानि बाजी उसी के हाथ में थी....।रामनगर में जले हुए मलवे में मिली निशा की जली लाश को पुलिस शैलजा जौहरी की लाश मान चुकी थी।यानि कानूनन शैलजा जौहरी मर चुकी थी।असल में शैलजा खुद को दूसरी औरत में तबदील कर रही थी।बाल ब्लैक से ब्राउन कर लिए। लंबे से छोटे करेक हेअर स्टाइल भी बदल लिया। स्किन लोशन, क्रीम वगैरा लगाकर और धूप सेककर त्वचा की रंगत को डार्क करने में लगी थी। उठाने-बैठने, चलने-फिरने और बोलचाल का अंदाज और लहजा भी बदल डाला। लिबास और बोलचाल से अब वह गोआनी क्रिशिचयन थी। नाम भी चेंज कर लिया - रीटा ब्रिगेजा।बिल्कुल दूसरी औरत। कोई साबित नहीं कर सकता था कि वह शैलेजा जौहरी थी। अब उसे बैंक लाकर्स से रकम निकालकर कही दूर जाकर गायब हो जाना था....इस दूसरी औरत का मंसूका पूरा होगा या विक्रम खन्ना अपने मकसद में कामयाब होगा....
    Show book